Ek Sham Urmilesh Shankdhar ke naam


16 May 2013 को Badayun के प्रख्यात गीतकार, Badayun Mahotsav के संस्थापक एवं संयोजक रहे Dr. Urmilesh Shankhdhar की 8वीं पुण्यतिथि पर Ek Sham Dr Urmilesh ke Naam का आयोजन किया गया। Akashwani Rampur के कलाकारों ने गीतों एवं गजलों की प्रस्तुति से समां बांध दिया। Dr Urmilesh Janchetna Samiti की ओर से बुधवार की शाम Badayun Club में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आकाशवाणी रामपुर के कलाकारों ने Dr. Urmilesh द्वारा रचित एकल व समूह गीत सुनाकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम का शुभारंभ DM C P Tripathi ने किया। कहा कि साहित्य व विशेष व्यक्तित्व के धनी Dr.Urmilesh सदैव याद किए जाएंगे। उद्घोषक Aseem Saxena ने भी Dr Urmilesh के जीवन पर प्रकाश डाला। Dr. Kshama Johri ने Dr Urmilesh के प्रसिद्ध गीत बेवजह दिल पे कोई बोझ न भारी रखिए व उसकी चूड़ी उसकी चूनर को प्रस्तुत किया। Ruchi Shukla ने कल हुई न हुई और Rita Sharma ने गजल सूना सूना है सावन तुम्हारे बिना व अपने घरों में ही रहे की मनमोहक प्रस्तुति दी। कलाकारों ने एक से बढ़कर एक कार्यक्रम पेश किये। समिति की ओर से यहां दो माह के लिए प्याऊ लगवाया गया। इस मौके पर CDO Jayant Kumar Dixit, नगर मजिस्ट्रेट Nidhi Srivastava, Dr Urmilesh की धर्मपत्‍‌नी Manjul Shankhdhar, Richa Ashesh, Agam Ashesh, Dr. Sonrupa, Vishal Rastogi, Chandraprakash Dixit, Wahidullah Khan, Satish Chand Mishra, Ashok Khurana, Dr Gopal Mishra, Dr Ram Bahadur Vyathit, Anup Rastogi, Amit Varshney, Kulbhushan Sharma, Sumit Mishra, Iqbal Asalam, Atul Shrotriya, Rahul Bharadwaj, Pradeep Sharma, Nitin Gupta, Dr Saurabh Shankhdhar, Anand Rastogi, K S Gupta, Dhirendra Tondon समेत तमाम लोग मौजूद रहे।,कार्यक्रम के संयोजन एवं Dr Urmilesh के पुत्र Dr Akshat Ashesh ने सभी का आभार व्यक्त किया।