Hasya Kavi Sammelan of Chanderi

Chirag Jain is reciting poem in Chanderi (MP)

Shri Digambar Jain तीर्थक्षेत्र khandargiri में विमानोत्सव के उपरांत Akhil Bhartiya Kavi Sammelan का आयोजन किया गया। 16 December 2012 को रात 9:30 पर शुरु हुआ कार्यक्रम रात 2:00 बजे तक चला। Mungavali के Kavi Pankaj Fankar के संचालन में आयोजित इस कार्यक्रम की शुरुआत Pratapgadh से आए युवा Kavi Parth Navin ने की। तदुपरांत क्रमशः सुश्री Archana Archan (Jabalpur), श्री Abdul Gaffar (Jaipur), Atul Jwala (Indore) और Chirag Jain (New Delhi) ने ठहाकों और तालियों का महोत्सव उपस्थित किया।
लगभग 3000 श्रोताओं ने देर रात तक कविताओं का आनंद लिया।