Kavi Sammelan : Glamour & Corporate

हिंदी कवि सम्मेलनों के बदलते स्वरूप में आयोजकों के बदलते चेहरे का बड़ा योगदान है। पहले कवि सम्मेलन का सामान्य अर्थ था किसी गली-नुक्कड़ पर टैंट या पांडाल लगाकर मंच बनाना, मंच पर मसनद, एक माइक, सात-आठ से लेकर बीस-बाइस तक कविगण, और कुछ सौ श्रोता। लेकिन अब कवि सम्मेलन अपनी इस परंपरागत छवि से बाहर आ रहे हैं। अब कविता Corporate जगत् में प्रवेश कर रही है। मसनद की जगह सोफ़े आ गये हैं, पांडाल की जगह आलीशान Auditoriums, कवियों के ठहरने के लिये धर्मशालाओं की जगह Five Star Hotals और दरी पर बैठने वाले कुछ सौ श्रोताओं की जगह सोफ़े-कुर्सियों पर बैठे हज़ारों Audiences।
जब कवि-सम्मेलनों के आयोजन आरंभ हुए थे तब पोस्टकार्डों पर पत्र-व्यवहार के ज़रिये कवियों को आमंत्रित किया जाता था। अब यह प्रक्रिया इंटरनेट के और फोन के माध्यम से सम्पन्न होती है। प्रोफ़ेशनलिज़्म ने Booking के समय Advance Payment की परंपरा डाली है। रेल के Second Class से शुरू हुई कवि-सम्मेलनीय यात्रा आज Flight के Business Class और Chartered Flights तक पहुँच गई है। कवि सम्मेलन अपने शुरुआती स्वरूप में धार्मिक उत्सवों, सामाजिक आयोजनों के Part हुआ करते थे। लेकिन अब Educational Institutes के Annual Day और Annual Fest, Corporate Functions, Marriage, Birthday Party, Bollywood Nights, Corporate Picnic और Family Functions तक में शामिल हो रहे हैं। राज्य सरकारें, केन्द्र सरकार, सरकारी विभाग, निगम, बैंक, NGO’s, पर्यटन, Doctors Associations, Bar Councils, Fashion World, Engineers, Media Houses, Political Parties, Private Limited Companies, Student Unions और कुंभ, शिल्पोत्सव, सूरजकुंड, नौचंदी, गणगौर, पुष्कर जैसे बड़े मेलों में भी कवि सम्मेलन एक Important Event के रूप में स्थापित हुए हैं।
सवा रुपैये के मानदेय से शुरु हुए कवि सम्मेलन अब हज़ारों के आँकड़े को लांघ कर लाखों तक पहुँच गये हैं। अब कवि Cheque और Demand Draft से Payment लेने लगे हैं। कवि अपनी आय से Income Tax तो दे ही रहे हैं साथ ही बहुत से कवियों ने Service Tax Registration भी करा लिया है। कवि TDS कटा रहे हैं। सरकारी ख़ज़ाने में योगदान कर रहे हैं। कवियों ने Personal Assistants, Secretaries और Offices रखने शुरू कर दिये हैं। माँ सरस्वती के लाडले कवियों को Celebrity Status मिला है। कवियों के Fans Club बने हैं। इन सारे परिवर्तनों ने कुर्ते-पायजामे वाले कवियों को Coat-Pant, Jackets, Vest-Coat, Tie और Glamour की दुनिया के अन्य परिधानों का रुख़ किया है।
कविता और कवि-सम्मेलनों के इन बदलावों में महती योगदान रहा है कार्पोरेट जगत् का। अनेक ऐसी बड़ी कंपनियाँ हैं, जो अपने विविध कार्यालयों में कवि-सम्मेलन करवाती हैं। इनमें प्रमुख Companies की सूची यहाँ दी जा रही है-

Akhil Bhartiya Vidyarthi Parishad, Bahujan Samaj Party (BSP), Bhartiya Janta Party (BJP), Samajwadi Party, Shivsena, Vishva Hindu Parishad, Rashtriya Janta Dal, CPI, CPI (M), Indian National Congress, Indian National Lok Dal, NSUI, Patanjali Yogpeeth, Airtel, Bharat Sanchar Nigam Limited (BSNL), Mahanagar Telephone Nigam Limited, Aditya Birla Group, Tata, Videocon, Godrej, Surya, Jaypee Group of Industries, Bharat Vikas Parishad, Ekal Vidyalaya, Sanskar Bharti, Lions Club, Rotary Club, Agrawal Samaj, Maheshwari Samaj, Brahman Samaj, Jain Samaj, All India Indstitute of Medical Sciences (AIIMS), Banaras Hindu Vishvavidyalaya (BHU), Barkatullah University Bhopal, Delhi Technical University, Delhi University, Himachal Pradesh University, Indian Institute of Financial Management (IIFM), Indian Indtitute of Foreign Trade, Indian Institute of Fashion Technology, National Institute of Fashion Technology,  Indian Institute of Management Ahamadabad, Indian Institute of Management Banglore, Indian Institute of Management Kolkata, Indian Institute of Technology Delhi, Indian Institute of Technology Kanpur, Indian Institute of Technology Khadagpur, Indian Institute of Technology Roorkie, Indian Institute of Technology Madras, Indian Institute of Technology Mumbai, Jain Vishwa Bharti, Sikkiam Manipal University, Jawaharlal Nehru University, Jodhpur National University, Mahatma Gandhi Institute of Medical Sciences, U P Rural Institute of Medical Science & Research, Mahatma Gandhi University, Kendriya Vidyalaya, Navodaya Vidyalaya, Maulana Azad Medical College, Nalanda Medical College, Patna Medical College, Bank of Baroda, Punjab National Bank, Oriental Bank of Commerce,  Bank of India, Canara Bank, Central Bank of India, Indian Bank, LIC, State Bank of India, Assocham, FICCI, ITPO, All India Radio,  Amar Ujala, Dainik Bhaskar, Nayi Duniya, Rajasthan Partika, Dainik Jagaran, Doordarshan, Haribhumi, Dainik Hindustan, Hindustan, Navbharat Times, Rashtriya Sahara, Prabhat Khabar, Government of Bihar, Government of Chhattisgarh, Government of Madhya Pradesh, Government of Uttar Pradesh, Government of Delhi, Government of Himachal Pradesh, Government of Uttarakhand, Government of Jharkhand, Government of Haryana, Government of Rajasthan, Government of Gujarat, Government of India, Municipal Corporation of Delhi, Delhi Tourism, Bihar Tourism, Haryana Tourism, Chhattisgarh Tourism, Maharashtra Tourism, Madhya Pradesh Tourism, Uttar Pradesh Tourism, Gujatrat Tourism, J&K Tourism, Andaman & Nikobar Tourism, ICCR, Kumbh Mela, Surajkund Mela, Nauchandi Mela, Shilpotsava, Delhi Merto Rail Corporation, Engineers India Limited, GAIL, IFFCO, Kribhco, Indian Railways, Khadi Gramodyog, National Minaral Development Corporation, NHPC, NTPC, Bharat Patrolium, Bharat Heavy Electronics Limited (BHEL), SAIL, Hindustan Petroleum, Indian Oil, ONGC, Power Finance Corporation, Powergrid, Border Security Force (BSF),  CISG, Central Reserve Police Force (CRPF), Coast Guard, Delhi Police, Food Corporation of India, G4S Security, Indian Army, Indian Air Force, UGC, UPSC