Tag Archives: Kavita

Zarurat Kya Thi : Hullad Moradabadi

ज़रूरत क्या थी : हुल्लड़ मुरादाबादी आइना उनको दिखाने की ज़रूरत क्या थी वो हैं बन्दर ये बताने की ज़रूरत क्या थी घर पे लीडर को बुलाने की ज़रूरत क्या थी नाश्ता उसको कराने की ज़रूरत क्या थी दो के … Continue reading

Tagged , , |

Chal Gai-Shail Chaturvedi

चल गई : शैल चतुर्वेदी वैसे तो एक शरीफ इंसान हूं आप ही की तरह श्रीमान हूं मगर अपनी आंख से बहुत परेशान हूं अपने आप चलती है लोग समझते हैं- चलाई गई है जानबूझ कर मिलाई गई है। एक … Continue reading

Tagged , , , |

Sharad Kavyotsava

शरद रात्रि की पूर्णिमा के अवसर पर संस्कार भारती, दिल्ली प्रांत ने जमुना की गवाही में अद्भुत कवि-सम्मेलन का आयोजन किया। कवि सम्मेलन का मंच चारों ओर से जमुना के पानी से घिरा था। कल-कल बहती जमुना के मध्य देर … Continue reading

Tagged , , , , , , , , |