Kavi Sammelan

हिंदी कविता और हिंदी कवि सम्मेलनों का कब-क्या स्वरूप रहा- इस बहस से कहीं अधिक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि कवि सम्मेलन हर समय में जन भावना की आवाज़ रहे हैं। चौबीस घंटे के News Channels से लेकर अख़बारों और Cyber Media तक कवि सम्मेलनों की टिप्पणियाँ और काव्यांश Quote होते रहे हैं।
यदि यह कहा जाए कि कवि-सम्मेलन वर्तमान परिप्रेक्ष्य पर निगाह रखते हुए, घटनाओं-गतिविधियों पर मंथन कर, समाज को सजग करने वाले सर्वाधिक सक्रिय और सम्पन्न माध्यम हैं। कभी व्यंग्य, कभी हास्य, कभी ओज और कभी शृंगार के माध्यम से यह संस्थान हर युग को अपने परिवेश में हो रहे बदलावों से अवगत कराता रहा है।
Suryakant Tripathi ‘Nirala, Maithili Sharan Gupt, Ramdhari Singh Dinkar, Mahadevi Verma, Subhadra Kumari Chauhan, Harivansh Rai Bachchan, Baba Nagarjun, Shivmangal Singh Suman, Bhawani Prasad Mishra, Gipal Singh Nepali, Sumitra Nandan Pant, Sohanlal Dwivedi, Balbir Singh Rang, Bharat Bhushan, Ramanath Avasthi, Kshemchandra Suman, Kanhaiya Lal Nandan, Devraj Dinesh, Gopal Prasad Vyas, Ramavtar Tyagi, Sharad Joshi, Shailendra, Ramrikh Manhar, Vimlesh Rajasthani, Kaka Hathrasi, Radhey Shyam Pragalbh, Shail Chaturvedi, Urmilesh Shankhdhar, Omprakash Aditya, Alhar Bikaneri, Agnivesh Shukla, Sagar Khaiyami, Neeraj Puri, Om Vyas Om, Madhumita Shukla, Indira Indu और Shyam Jwalamukhi जैसे न जाने कितने फ़नक़ार कवि-सम्मेलनों का चेहरा बन अपने-अपने युग का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।
पूर्व प्रधानमंत्री Atal Bihari Vajpeyi, Ramdhari Singh Dinkar, Bhawani Prasad Mishra, Balkavi Bairagi Bekal Utsahi, Uday Pratap Singh, Ompal Singh Nidar, Kumar Vishwas, Prabha Thakur, Barkha Singh, और Satyanarayan Sattan जैसे अनेक नाम कविता की शक्ति से लोकप्रियता के चरम तक पहुँचे और राजनैतिक क्षेत्र में सफलता के सोपान चढ़े।
मंचीय कविता के माध्यम से प्रसिद्धि हासिल कर बॉलीवुड की दुनिया में गीतों और संवादों के मोती पिरोने वाले हस्ताक्षरों की सूची तैयार की जाए तो Gopal Das Neeraj, Atmaprakash Shukla, Santosh Anand, Shailendra, Maya Govind, Vishveshwar Sharma, Balkavi Bairagi, Ramavtar Tyagi, Indrajeet Tulsi, Kunwar Bechain, Veenu Mahendra, Charanjeet Charan, Sunil Jogi, Prabha Thakur, Nida Fazli, Rahat Indori, Gemini Haryanvi, Alhar Bikaneri, Kaka Hathrasi, Ashkaran Atal, K P Saxena, और Sharad Joshi जैसे तमाम नाम सामने आएंगे।
ये कवि सम्मेलनों की शक्ति ही थी कि Rajkapur और Manoj Kumar जैसे बड़े फ़िल्मकारों ने अपनी फ़िल्मों के लिये गीतकारों की तलाश में कवि-सम्मेलनों में आना जाना शुरू किया। रेलवे के कवि सम्मेलन में Shailendra को सुनने के बाद Rajkapur स्वयं उनके घर गए। Dev Anand जैसा फ़िल्मकार Neeraj जी की तलाश में अलीगढ़ तक आया। और Manoj Kumar की अधिकतम फ़िल्में Santosh Anand जी के गीत के बिना पूरी नहीं होती थीं।
इसके इतर भी रूपहले पर्दे से कवि-सम्मेलनों का गहरा रिश्ता रहा है। Surendra Sharma जी ने ‘संतोष’ फ़िल्म में अभिनय किया है तो ‘मज़े ले लो’ नामक फ़िल्म में बाक़ायदा कवि-सम्मेलन का दृश्य फ़िल्माया गया है, जिसमें उस समय के तमाम बड़े कवियों का काव्य पाठ सम्मिलित है। राजश्री फ़िल्म ने तो “कवि-सम्मेलन” नाम से तीन घंटे की पूरी फ़ीचर फ़िल्म का निर्माण किया।
दूरदर्शन और आकाशवाणी के जन्म से ही कवि सम्मेलनों और काव्य गोष्ठियों के प्रसारण की परंपरा रही है, जो आज भी क़ायम है। दूरदर्शन की केन्द्रीय कार्यक्रम निर्माण (CPC) इकाई के गठन के बाद Govind Vyas जी ने कवि-सम्मेलन को एक नियमित कार्यक्रम के रूप में स्थापित किया। Ashok Chakradhar जी द्वारा संचालित फुलझड़ी एक्सप्रेस भी अपने समय पर कविताओं का लोकप्रिय कार्यक्रम रहा। इक्कीसवीं सदी में प्रवेश करते-करते जब सेटेलाइट टेलिविज़न पूरे भारत में ज़ोर पकड़ चुका था तब ईटीवी उर्दू (ETV Urdu) का मुशायरा ख़ासा लोकप्रिय होने लगा। फिर तमाम छोटे-छोटे टीवी चैनलों पर कविता पाठ के लिये विविध कार्यक्रमों का सृजन हुआ। SAB TV पर Ashok Chakradhar द्वारा संचालित “Wah-Wah” ने इस क्षेत्र में मील का पत्थर स्थापित किया। कालांतर में इस कार्यक्रम का संचालन क्रमशः Subhash Kabra और Shailesh Lodha ने किया। इसी दौरान NDTV पर Kumar Sanjoy Singh के संचालन में “Arz Kiya Hai” कार्यक्रम प्रारंभ किया गया, जिसको लोगों ने ख़ूब सराहा। Neeraj Puri ने India Live चैनल पर Khabardar Khabrein कार्यक्रम का संचालन प्रारंभ किया जिसका संचालन बाद में Deepak Gupta ने किया। Live India चैनल पर Shailesh Lodha के संचालन में “Kya Baat Hai”; Arun Gemini के संचालन में NEPC चैनल पर “हँसगोला”; Zee TV पर Arun Gemini के संचालन में “दरअस्ल”; Zee India चैनल पर Arun Gemini के संचालन में “यही है पॉलिटिक्स” और Sadhana TV पर “Satmola Kaviyon Ki Chaupal” जैसे तमाम कार्यक्रम टेलीविज़न के दर्शकों तक कविताएँ पहुँचाते रहे। उधर Dabang चैनल पर “Bahut Khoob” के माध्यम से Shailesh Lodha ने कवि-सम्मेलनों को और ऊँचाई प्रदान की। हाल ही में पिछले चार महीनों से SAB TV पर “Wah Wah Kya Baat Hai” कार्यक्रम टीवी पर प्रसारित होने वाले कवि सम्मेलनों के सर्वाधिक Glamorized Format का उदाहरण बना हुआ है।
वर्तमान समय में Surendra Sharma, Ashok Chakradhar, Pradeep Chobey, Hullad Moradabadi, Gemini Haryanvi, Govind Vyas, Manik Verma, Ashkaran Atal, Arun Gemini, Kumar Vishwas, Pratap Faujdar, Shailesh Lodha, Satyanarayan Sattan,  Mahendra Ajanabi, Vedprakash Ved, Surendra Dubey, Praveen Shukla, Sunil Jogi, Popular Meeruthi, Dr. Surendra Dube, Shambhu Shikhar, Chirag Jain, Haresh Chaturvedi, Sarvesh Asthana, Deepak Gupta, Hariom Panwar, Vineet Chauhan, Vedvrat Vajpeyi, Jagdish Solanki, Gajendra Solanki, Ashish Anal, Manveer Madhur, Rajesh Chetan, Saurabh Suman, Kamlesh Sharma, Gopaldas Neeraj, Santosh Anand, Atmaprakash Shukla, Uday Pratap Singh, Som Thakur, Kishan Saroj, Kunwar Bechain, Vishnu Saxena, Suresh Upadhyaya, Dewal Ashish, Ramesh Sharma, Dinesh Raghuvanshi, Suresh Avasthi, Kumar Pankaj, Rajendra Rajan, Shiv Om Amber, Munavvar Rana, Rahat Indori, Nawaz Deobandi, Rajgopal Singh, Surya Kumar Pandey, Charanjeet Charan, Sita Sagar, Sarita Sharma, Kirti Kale, Anamika Amber, Nutan Kapur, Suman Dubey और Ritu Goel जैसे तमाम रचनाकार हास्य, ओज और शृंगार कविताओं के माध्यम से लोकप्रियता के नित नये सोपान चढ़ रहे हैं।
Anna Hazare के जन आंदोलन में Kumar Vishwas की सक्रियता हो या Baba Ramdev की क्रांति में Hariom Panwar, Gajendra Solanki और Manveer Madhur की भूमिका; हर गतिविधि कवि-सम्मलेनों से प्रभावित होती है और कवि-सम्मेलनों को प्रभावित करती है। Facebook, Twitter, Orkut, LinkedIn, और अन्य तमाम सोशल साइट्स पर कवियों की पंक्तियाँ और टिप्पणियाँ कट-पेस्ट करने का कल्चर ज़ोरों पर है। YouTube तो कवि सम्मेलनों की Videos  से भरा ही हुआ है। Ramesh Muskan, Sarvesh Asthana, Chirag Jain, Shambhu Shikhar और Vedprakash Ved उन चंद हस्ताक्षरों में से हैं जो Facebook पर अपनी टिप्पणियों के लिये सर्वाधिक पढ़े जाते हैं।
इतने बृहद और विस्तृत संस्थान की अभी तक ऐसी कोई व्यवस्थित संस्था नहीं है जिस पर देश-विदेश में आयोजित होने वाले सभी कवि-सम्मेलनों की सूचनाएँ आप तक पहुँचा सके। ऐसे में हमने इस Web Portal के माध्यम से एक ऐसा मंच तैयार किया है जो न केवल आयोजकों को कवि-सम्मेलनों के आयोजन में मदद करेगा बल्कि कवि-सम्मेलन से संबंधित Reports, Press Clips, Videos, और अन्य चर्चाएँ जन सामान्य तक पहुँचाने का प्रयास करेगा।
यदि आपके क्षेत्र में किसी कवि सम्मेलन का आयोजन हो तो आप उसकी Report और उसका चित्र हमें प्रेषित करें, साथ ही यदि किसी अख़बार में कोई Report प्रकाशित हुई हो तो उसको भी scan कर के हमारे पास प्रेषित कर सकते हैं। आपके सहयोग से धीरे-धीरे हम इस Web page को अधिक से अधिक उपयोगी बना सकेंगे।

-चिराग़ जैन